Osho World

सूर्य भगवान की पूजा करने के लाभ || सूर्य भगवान की पूजा किस तरह करनी चाहिए?

Spread the love

सूर्य भगवान की पूजा करके आप अपनी मनचाही मुराद पूरी कर सकते हैं आई यहां मैं आपको सूर्य भगवान की पूजा करने के लाभ और सूर्य भगवान की पूजा किस तरह करनी चाहिए उसके तरीके बता रही हूं …1….रविवार के दिन सूर्य भगवान की पूजा करने से मनचाही मुराद पूरी होती है इनकी पूजा बड़ी ही फलदाई है इनकी उपासना करने से ज्ञान मिलता है सुख मिलता है स्वास्थ्य मिलता है शरीर में तेज बढ़ता है सफलता मिलती है पर मिलती है बताती हूं कहती है सूर्य भगवान की पूजा करने से हर तरह की कठिनाइयों पर काबू पाया जा सकता है शरीर और व्यवहार में इतना तेज पैदा हो जाता है कि हर तरह की परेशानी से निपटने के लिए हमारे अंदर वो ताकत पैदा हो जाती है जिसकी हमें जरूरत है दूसरा सूर्य भगवान की पूजा से इंसान के अंदर आकर्षित करता है आत्म बल बढ़ता है जिनमें आत्मविश्वास की कमी है उन्हें सूर्य भगवान की पूजा जरूर करनी चाहिए जिन लोगों की मानसिक शक्ति स्ट्रांग नहीं है उन लोगों को सूर्य भगवान की उपासना करनी चाहिए सोंग होती है और आत्मविश्वास पैदा होता है सोचने की क्षमता बढ़ती है शक शांति मिलती है समर्थ बढ़ता है सूर्य नहीं कहा जाता है जो सब ग्रह नक्षत्रों ब्राह्मणों को नियंत्रित करता है यही विशेषता है कि सूर्य भगवान के ऊपर पूजा की जाती है सूर्य में ताकत है कि वह हर सृष्टि को अपने कंट्रोल में किए हुए हैं इसीलिए सूर्य भगवान की उपासना करने वाले को हर चीज नियंत्रित करने की शक्ति महसूस होने लगती है हर पर कार्य को वह सफलता पूर्ण संपन्न करने की ताकत अपने अंदर महसूस करता है मैं आपको सूर्य भगवान की उसके बारे में बता रही हूं जैसे ही सुबह सूर्य की पहली किरण निकलती है आप सफेद वस्त्र धारण करके होकर सफेद वस्त्र धारण करके सूर्य की पहली किरण से ही दिन की शुरुआत शुरू हो जाती है जीवन में नया उत्साह आता है प्रेरणा शुरू हो जाती है सुबह उठ कर नहा धोकर सफेद वस्त्र पहनकर सूर्य देव को नमस्कार करें सूर्य की तरफ मुंह करके उन्हें प्रणाम करें तांबे के बर्तन में जल ले ले अपने दोनों हाथों में पकड़ कर दोनों हाथों को अपने सिर के ऊपर ले जाएं और सिर के ऊपर से उस जल को सूर्य चल को अर्पित करते हुए आपने एक मंत्र का जाप करना है ओम सूर्याय नमः ओम आदित्य आए नमः ओम भास्कर आए नमः इसके बाद आप ने सूर्य देव को प्रणाम कर जमीन पर बिखरे हुए जल से अपने मस्तक में एक टीका लगाना है और इससे सूर्य भगवान की पूजा संपन्न करनी है यह सब आपको

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *