ओशो के 10 वचन

Spread the love
जानिए ओशो के कुछ ऐसे विचार, जिनसे आपकी सोच बदल सकती है…

1. आधे-अधूरे ज्ञान के साथ कभी आगे न बढ़ें। ऐसा करने पर आपको लगेगा कि आप अज्ञानी हो और अंत तक अज्ञानी ही बने रहोगे।

2. सिर्फ आपके पाप ही आपको दुखी कर सकते हैं। जो आपको अपने आप से दूर ले जाने की कोशिश करते हैं। ऐसी चीजो को अनदेखा करना ही बेहतर होता है।

3. दर्द आपको दुख देने के लिए नहीं है। लोग यही भूल करते हैं। यह दर्द आपको और अधिक सतर्क करता है। क्योंकि लोग केवल तब सतर्क होते हैं, जब तीर उनके दिल में गहरा चला जाता है और उन्हें आघात पहुंचता है।

4. किसी के साथ, किसी भी तरह की प्रतियोगिता की कोई जरूरत नहीं है। आप अपने आप श्रेष्ठ हैं और आप जैसे हैं आप पूर्ण रूप से अच्छे हैं। अपने आप को स्वीकार करें।

5. दुख पर ध्यान दोगे तो हमेशा दुखी रहोगे। सुख पर ध्यान देना शुरू करो। हम जिस पर ध्यान देते हैं, वही चीज सक्रिय हो जाती है। ध्यान सबसे बड़ी कुंजी है।  

6. ये कोई मायने नहीं रखता है कि आप किसे प्यार करते हैं, कहां प्यार करते हैं, क्यों प्यार करते हैं, कब प्यार करते हैं, कैसे प्यार करते हैं और किस लिए प्यार करते हैं, मायने सिर्फ यही रखता है कि आप केवल प्यार करते हैं।

7. प्यार एक पक्षी है, जिसे आजाद रहना पसंद है। जिसे उड़ने के लिए पूरे आकाश की जरूरत होती है।

8. इस दुनिया में दोस्ती ही सच्चा प्यार है। दोस्ती का भाव प्यार का सर्वोच्च रूप है, जहां कुछ भी मांगा नहीं जाता, कोई शर्त नहीं होती, जहां बस दिया जाता है।

9. अगर आप प्यार से रहते हैं, प्यार के साथ रहते हैं तो आप एक महान जिंदगी जी रहे हैं, क्योंकि प्यार ही जिंदगी को महान बनाता है।

10. बड़ा सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है। सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है।

Leave a Comment