ओशो कथाएँ- 24 समाधि कमल ……ओशो कथा

Spread the love

Abraham Lincoln president हुआ अमरीका का उसका बाप तो जूता सीता था, चमार था !
जब वह प्रेसिडेंट हुआ और पहले दिन वहां की सीनेट में बोलने को खड़ा हुआ, तो अनेक लोगों को उससे बड़ी पीड़ा हो गई कि एक चमार का लड़का और प्रेसिडेंट हो जाए मुल्क का! तब … किसी ने खड़े होकर व्यंग्य कर दिया और कहा कि महानुभाव लिंकन, ज्यादा गुरूर में मत फूलो! Yaad rakhna तुम्हारे पिता जूते सिया करते थे तो जरा इस बात का खयाल रखना, नहीं तो प्रेसिडेंट होने में भूल जाओ।
इस बात से तो दुखी हो जाता, क्रोध से भर जाता शायद गुस्से आता और उस आदमी को कोई नुकसान पहुंचाता प्रेसिडेंट नुकसान पहुंचा सकता था लेकिन Lincoin की आखो
M आंसू आ गए और उसने कहा कि तुमने ठीक समय पर मेरे पिता की मुझे याद दिला दी।
आज वेशक वे संसार में नहीं हैं, लेकिन फिर भी मैं यह कह सकता हूं कि मेरे पिता ने कभी किसी के गलत जूते नहीं सिए हैं, और जूते सीने में वे अदभुत कुशल थे।
वे इतने कुशल कारीगर थे जूता सीने में कि मुझे आज भी उनका नाम याद करके गौरव का अनुभव होता है। और मैं यह भी कह देना चाहता हूं–और यह बात लिख ली जाए,
Lincoln बोले –कि जहां तक मैं समझता हूं, मैं उतना अच्छा प्रेसिडेंट नहीं हो सकूंगा, जितने अच्छे वे जूता सिलने वाले थे!
मैं अपने father के जैसे कुशल नही हो सकता हूं, उनकी कुशलता बेजोड़ थी! यह एक समझ की बात है, एक बहुत गहरी समझ की। जब तक दुनिया में पदों के साथ इज्जत होगी, तब तक अच्छी दुनिया पैदा नहीं हो सकती और ईष्या बनी रहेगी
Comptition काम के कारण नहीं है, प्रतिस्पर्धा है पदों के साथ जुड़े हुए आदर के कारण कोई आदमी बागवान नहीं होना चाहता, बागवान होने में कौन सी इज्जत मिलेगी?
President होना चाहता है यह तब तक चलेगा, जब तक हम गरीब बागवान को भी इज्जत देना शुरू नहीं करेंगे
ओशो,
समाधि कमल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *