उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग

Spread the love

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग

(1) उल्लू का तंत्र क्रियाओ मे होता है उपयोग …..

प्राचीन काल से ही तंत्र गतिविधियों में उल्लू का तंत्र क्रियाओं में उपयोग किया जाता रहा है। हालांकि अन्धविश्वास फैल गया है,

ऐसे भ्रमों से बचने की जरूरत है। इस प्रणाली में रक्त, मूत्र, हृदय, आंख, पंख, नाखून आदि का अलग-अलग उपयोग किया जाता है।

प्राचीन काल में यह कहा जाता है कि तुर्की गतिविधि में पक्षी सबसे अधिक मांग वाला पक्षी था और इसके विभिन्न उपयोगों पर एक विस्तृत ग्रंथ लिखा गया है।

पक्षी तंत्र के अनुसार उल्लू धन का प्रतीक है। वह स्थान जहाँ धन या खजाना दफन हो। वहां उल्लू पाए जाते हैं।

तंत्र शास्त्रों में उल्लू को धन का रक्षक माना गया है। अगर उल्लू घर या मंदिर में रहने लगे तो उस जगह में बहुत खजाना होगा और जहां उल्लू रहने लगेगा, ऐसा स्थान जल्द ही उजाड़ और उजाड़ हो जाएगा।

(2) प्रेत – दोषों को नष्ट करने के लिए प्रयोग करें

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग


उल्लू के दाहिने पंख की धूप-दीप आदि से पूजा करें। फिर निम्न मंत्र का

१००८ बार जाप करें – Om नमो कालरात्रि। फिर इस मंत्र का जाप करते हुए किसी ताबीज में बंद करके पीड़ित के गले में धारण कर लें, तो इससे भूत-प्रेत आदि के सभी दोष दूर हो जाते हैं।u

(3) व्यापर बढ़ाने के लिए

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग


उल्लू की पूँछ के पंखों को किसी भी महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी, दशमो या अमावस्या को लेकर आयें।

फिर उनका धूप – दीप आदि से मनोभाव से पूजन करें और उनको किसी ताबीज में बन्द करके अपने दाँये हाथ में बाँधे तो व्यापार में बहुत सफलता प्राप्त होती है (उल्लू का तंत्र क्रियाओ )

(4) बुद्धि बढ़ाने के लिए

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग

कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन सूर्योदय से पहले उल्लू के पेट के पंख लेकर आएं।

फिर धूप-दीप आदि से उनकी पूजा करें और उन्हें सोने के ताबीज में लपेट कर अपने हाथ में बाँध लें

(यदि नर हो तो अपने दाहिने हाथ में बाँध लें और यदि मादा हो तो अपने बाएँ हाथ में बाँध लें)। ऐसा करने से बुद्धि का विकास धीरे-धीरे होने लगता है।

(5) मिरगी दूर करने के लिए तंत्र क्रिया

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग


आलू के ग्यारह पंख और एक सफेद सूती कपड़ा ले आओ। फिर पंखों को एक-एक करके जलाएं और इस सफेद कपड़े पर धुंआ जमा करते रहें।

फिर उसके चारों ओर कपड़ा लपेटकर हल्का कर लें। फिर शनिवार की सुबह पीड़िता के हाथ में बत्ती बांधें (यदि वह पुरुष है तो अपने दाहिने हाथ में बांध लें,

और यदि महिला हो तो उसके बाएं हाथ में बांध दें)। इससे हिरण की बीमारी धीरे-धीरे ठीक हो जाएगी।

(6) कुछ संकेत जो उल्लू के आने पर माने जाते हैं

अगर उल्लू किसी के घर में रहने लगे तो वह जल्द ही उजाड़ हो जाता है। यदि कोई घर की छत पर बैठकर बात करता है,

तो घर का मालिक या परिवार का कोई सदस्य निश्चित रूप से मर जाएगा। अगर कोई उल्लू लगातार तीन दिन किसी के दरवाजे पर रोता है, तो उसका घर लूट लिया जाता है।

उल्लू का इस तरह दिखाई देना

यात्रा के दौरान बाईं ओर उल्लुओं की आवाज और दृष्टि अच्छी होती है। एक शरणार्थी को पीछे हटाना भी काम में सफलता का संकेत है,

लेकिन दाईं ओर देखना और आवाज देना अनुचित है। संस्कृत में इसे ढोक कहते हैं। रात के समय इसे पक्षी माना जाता है। यह दिन में दिखाई नहीं देता।

अगर यह अपने घोंसले से बाहर आता है, तो कौवे इसे बहुत परेशान करते हैं। यह हर तरह की आवाजें निकालता है। कभी-कभी ऐसा लगता है

कि कोई बच्चा रो रहा है। लोककथाओं के अनुसार, यह उजाड़ में रहता है, इसलिए यह वीरानी चाहता है। देर रात यात्रा करने वालों में सेचरी के कोचर, आलू और शकुन हैं।

यदि कोई शरणार्थी अपनी बाईं ओर देखता है या उसकी आवाज सुनता है, तो उसे पूरा होने की सूचना दी जाती है। इसके विपरीत, दाईं ओर बोलने में विफलता जानकारी देती है,

पीठ के बल बोलने से पीठ अच्छी होती है और सामने की ओर बोलने से असंतोषजनक परिणाम मिलते हैं। (उल्लू का तंत्र क्रियाओ मे होता है उपयोग ) जब हम इस तरह की ‘हम-हम’ की आवाज निकालते हैं, तो यह चोट नहीं करता है क्योंकि ऐसी आवाज करने से वह संभोग में रुचि रखता है।

उल्लू के साथ घर पर बैठना आमतौर पर अप्रिय माना जाता है। सामान्य तौर पर, एक विशिष्ट लक्ष्य के साथ बैठना एक बात है और भविष्य की ओर देखना बिल्कुल दूसरी बात है।

कुछ जानवरों और पक्षियों को उनकी भावनाओं से आंका जाता है और इस अंतर्दृष्टि के कारण, जब वे कोशिश करते हैं या व्यवहार करते हैं, तो वे महिमा के साधन होते हैं, अन्यथा वे नहीं होते हैं।

मान लीजिए कोई ऐसी जगह है जहां वह आसानी से अपना खाना और जानवर देख सकता है। या जहां मिलती है, तो ऐसे में सिर्फ बैठने का आरोप लगाया जाता है।

यदि आप घर की छत पर बैठकर ऐसा कहते हैं तो इस ग्रह पर परिवार के किसी सदस्य या परिवार के किसी अन्य सदस्य की मृत्यु हो जाती है।

यदि यह एक सप्ताह से अधिक समय से घर की बेड़ियों पर बैठा है, तो यह घर के विनाश या बर्बादी से अवगत होता है।

अगर उल्लू तीन दिन दरवाजे पर रोता है, तो चोरी की प्रबल संभावना होती है। इसकी सुरक्षा के लिए रात में मांस की बलि देनी चाहिए।

यदि उल्लू दिन में किसी भी दिशा में, किसी भी दिशा में बोलता है, तो यह दुर्भाग्य को सूचित करता है।

उल्लू का तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top